l

Author: dinesh yadav

Hello friend & s i am a small Dard Bhari kahaniya and still studying in firlst year I love Dard Bhari kahani l ; please like Dard bhari kahaniya

ना चाहत है मुझे इन सितारों की, ना चाहत है इन बहारों की। तू हमेशा मेरे साथ रहे यही चाहत है तेरे दीवाने की

महीना कुछ यूं ही नवंबर-दिसंबर की रही होगी। आकाश साफ़ थी हल्की धूप निकल चुकी थी। हम अपने दोस्तों के…