मेरा क्या दोष

वापस जाने का कोई डर नहीं दो रोटियों के साथ जिंदगी जीना चाहता था मेरा क्या दोष? मैं मजदूर की…